“Daily Indian History G.K. 27/ May/2019”

“Daily Indian History G.K. 27/ May/2019”

Download Click Here 

 

Que.01   कौन सा वंश ब्रह्मक्षत्रिय वंश कहलाता था?

  1. सेन
  2. पाल
  3. प्रतिहार
  4. चालुक्य

 

 

Answer :–1.   सेन

 

 

Notes :—   सेन वंश ब्रह्मक्षत्रिय वंश कहलाता था। यह बंगाल का एक वंश था। इसकी स्थापना सामन्त सेन ने की। यह 11वीं और 12 वीं सदी में था।

*****************************************************************

Que.02   कौन सा मिलान सही नहीं है?

  1. नागनाद –हर्ष
  2. मुद्राराक्षस – विशाखादत्त
  3. मृच्छकटिक – शूद्रक
  4. रत्नावली – राजशेखर

 

 

Answer :–  4.   रत्नावलीराजशेखर

           

 

Notes :—   नागनाद एक संस्कृत नाटक है जिसकी रचना राजा हर्ष ने की। मुद्राराक्षस की रचना विशाखादत्त ने की। मृच्छकटिक की रचना शूद्रक ने की। रत्नावली की रचना उदयिन ने की।

*****************************************************************

Que.03   परमसौगात की उपाधि किसने धारण की?

  1. राज्यवर्धन
  2. हर्षवर्धन
  3. प्रभाकर वर्धन
  4. इनमें से कोई नहीं

 

 

Answer :–  1.  राज्यवर्धन

 

 

Notes :—   परम- सौगात की उपाधि राज्यवर्धन ने धारण की| राज्यवर्धन हर्ष की बहिन राज्यश्री का पति और वर्धन वंश का राजा था जिसकी हत्या गौड़ के राजा शशांक ने कर दी थी|

*****************************************************************

 

Que. 04    गुप्त राजाओं के बाद किन राजाओं ने गरुड़ को अपना राज्य का चिन्ह बनाया?

  1. पल्लव
  2. राष्ट्रकूट
  3. चोल
  4. वर्धन

 

 

Answer :–  1.  पल्लव

 

 

Notes :—   गुप्त राजाओं के बाद किन राजाओं ने गरुड़ को अपना राज्य चिन्ह राष्ट्रकूट राजाओं ने बनाया|

*****************************************************************

 

Que.05   किस सातवाहन राजा ने सर्वप्रथम राजा के नाम के सिक्के जारी किए?

  1. शातकर्णि प्रथम
  2. गौतमीपुत्र शातकर्णि
  3. यज्ञश्री शातकर्णि
  4. हाल

 

 

Answer :–  1. शातकर्णि प्रथम

 

 

Notes :—   सातवाहन वंश आंध्र प्रदेश में राज्य करने वाला प्राचीन ब्राह्मण वंश था। इनका राज्य वर्तमान कर्नाटक से मध्य प्रदेश गुजरात तक फैला हुआ था। शातकर्णि प्रथम ने सबसे पहले अपने नाम के सिक्के जारी किए।

       *****************************************************************    

 

Que. 06   यौध्देयों का प्रमुख स्थान कहाँ था?

  1. रोहतक
  2. मगध
  3. राजस्थान
  4. उज्जैन

 

 

Answer :–  1.  रोहतक

 

 

 

Notes :—   यौध्देयों का प्रमुख स्थान  हरियाणा का रोहतक था| कार्तिकेय यौध्देयों के प्रमुख देवता थे|

*****************************************************************

 

Que. 07   समुद्रगुप्त के समय काँची का राजा कौन था?

  1. हस्तिवर्मन
  2. मंतराज
  3. नीलराज
  4.  विष्णुगोप

 

 

Answer :–  4.  विष्णुगोप

 

Notes :—   समुद्रगुप्त के समय काँची का राजा विष्णुगोप था। उसका उल्लेख इलाहाबाद स्तंभ शिलालेख में है। विष्णुगोप पल्लव वंश का राजा था।

*****************************************************************

 

Que. 08   चार अश्वमेध यज्ञों का आयोजन किस राजा ने कराया?

  1. हस्तिवर्मन
  2. समुद्रगुप्त
  3. पुष्यमित्र शुंग
  4. प्रवरसेन प्रथम

 

 

Answer :–  4.  प्रवरसेन प्रथम

 

 

Notes :—   प्रवरसेन प्रथम वाकाटक वंश का राजा था। वाकाटक दक्षिण भारत में राज्य करने वाला एक ब्राह्मण राजवंश था जिसने तीसरी शताब्दी से पाँचवी शताब्दी तक राज्य किया। इस वंश की स्थापना विंध्यशक्ति ने की। ये राजा गुप्त राजाओं के समकालीन थे।

*****************************************************************

Que. 09     ग्रीकरोमन साहित्य में चंद्रगुप्त मौर्य को सेन्ड्रोकोट्स कहा गया है। इसका उल्लेख सर्वप्रथम किसने किया?

  1. डी आर भंडारकर
  2. अलेक्जेंडर कनिघम
  3. आर पी चंद
  4. विलियम जोन्स

 

 

Answer ;–  4.   विलियम जोन्स

 

 

Notes :—   विलियम जोन्स से सर्वप्रथम बताया कि ग्रीक-रोमन साहित्य में चंद्रगुप्त मौर्य को सेन्ड्रोकोट्स कहा गया है। इसके अलावा उसे एंड्रोकोट्स भी कहा गया है।

*****************************************************************

Que. 10    किस राज्य के राजाओं ने सीरिया के साथ राजनीतिक संबंध बनाए?

  1. मौर्य
  2. गुप्त
  3. पल्लव
  4. चोल

 

 

Answer :–  1. मौर्य

 

 

 

Notes :—   मौर्य राजा बिंदुसार ने सर्वप्रथम सीरिया के राजा एण्टियोकस प्रथम से राजनीतिक सम्बंध बनाये। बिंदुसार के राज्य में डाइमोकस नामक सीरियाई राजदूत था। अशोक के 13वें शिलालेख में भी सीरिया के 5 राजाओं का उल्लेख है।

     *****************************************************************      

 

 

           

           

 

 

Leave a Comment